Established in: 1875 at Mumbai

Arya Samaj Mandir Bank Colony, Indore is run under aegis of Divyayug Nirman Trust. Divyayug Nirman Trust is an Eduactional, social, religious and charitable trust registered under MP Public Trust Act 1951. Arya Samaj Mandir Bank Colony, Indore is the only Mandir controlled by Divyayug Nirman Trust. We do not have any other branch or Centre in Indore.Kindly ensure that you are solemnising your marriage with a registered organisation and do not get mislead by large Buildings or Hall. "आर्यसमाज मन्दिर, बैंक कालोनी, इन्दौर" दिव्ययुग निर्माण ट्रस्ट द्वारा संचालित इन्दौर में एकमात्र मन्दिर है। म.प्र. पब्लिक ट्रस्ट एक्ट 1951 के अन्तर्गत पंजीकृत दिव्ययुग निर्माण ट्रस्ट एक शैक्षणिक-सामाजिक-धार्मिक-पारमार्थिक ट्रस्ट है। आर्यसमाज मन्दिर बैंक कालोनी के अतिरिक्त इन्दौर में दिव्ययुग निर्माण ट्रस्ट की अन्य कोई शाखा या आर्यसमाज मन्दिर नहीं है। विशेष सूचना- Arya Samaj तथा Arya Samaj Marriage और इससे मिलते-जुलते नामों से Internet पर अनेक फर्जी वेबसाईट एवं गुमराह करने वाले आकर्षक विज्ञापन प्रसारित हो रहे हैं। अत: जनहित में सूचना दी जाती है कि इनसे आर्यसमाज विधि से विवाह संस्कार व्यवस्था अथवा अन्य किसी भी प्रकार का व्यवहार करते समय यह पूरी तरह सुनिश्चित कर लें कि इनके द्वारा किया जा रहा कार्य पूरी तरह वैधानिक है अथवा नहीं।

आर्य समाज विवाहों पर लगी शर्तें हटीं

परिवारजनों की अनुपस्थिति में भी अब विवाह हो सकेंगे

ग्वालियर । आर्य समाज में होने वाले विवाहों पर लगाई गई शर्तें ग्वालियर स्थित मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की युगल पीठ द्वारा हटा दी गई हैं। अब माता-पिता अथवा परिवारजनों की उपस्थिति के बिना भी आर्य समाज में विवाह हो सकेंगे। बुधवार दिनांक 30 अक्टूबर 2013 को मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर स्थित युगल पीठ ने आर्य समाज की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि विधियॉं बनाने का काम न्यायालय का नहीं है।

विवाह को लेकर हिन्दू लॉ में वर्णित नियमों के अतिरिक्त कोई नियम नहीं हो सकते हैं न्यायमूर्ति एस.के. गंगेले एवं न्यायमूर्ति जी.डी. सक्सेना की युगल पीठ ने एकल पीठ के उस निर्णय को खत्म कर दिया, जिसमें आर्य समाज मन्दिर में विवाह करने  के लिये नियम बनाए थे। आर्य समाज ने आशीष अग्रवाल के मामले में एकल पीठ के निर्णय को चुनौती देते हुए याचिका पेश की थी। एकल पीठ द्वारा शादी के लिये नियम बनाए जाने पर आपत्ति जताते हुए युगल पीठ ने परम्परागत हिन्दू विवाह को मान्य करते हुए, हिन्दू विवाह अधिनियम के नियम बताये। युगल पीठ ने कहा कि आर्य समाज में होने वाले विवाह हिन्दू विवाह के अन्तर्गत ही हैं। आर्य समाज के लिये अलग से नियम कैसे हो सकते हैं?

ध्यातव्य है कि दिनांक 13 मई 2013 को मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की एकल पीठ द्वारा आर्य समाज में होने वाले विवाहों पर शर्तें लगा दी गई थी, जिनके अनुसार विवाह की दिनांक व समय की सूचना वर-वधू के माता-पिता तथा परिवारजनों एवं सम्बन्धित पुलिस स्टेशन और जिलाधीश को पंजीकृत डाक से देना आवश्यक कर दिया गया था। विवाह के समय कम से कम दस परिजनों (दोनों पक्षों के पॉंच-पॉंच) की उपस्थिति भी अनिवार्य कर दी गई थी। इसके विरुद्ध आर्य समाज ने उच्च न्यायालय में आवेदन दिया था न्यायमूर्ति श्री एस. के. गंगेले और श्री जी.डी सक्सेना ने दिनांक 30 अक्टूबर 2013 को इस आवेदन को मंजूर करते हुए एकल पीठ के आदेश को निरस्त कर दिया। अत: अब आर्य समाज में पूर्ववत्‌ तरीके से विवाह हो सकेंगे। जिलाधीश व पुलिस को सूचना देनें की आवश्यकता और परिवारजनों की उपस्थिति अनिवार्य नहीं होगी।

आर्य समाज में विवाहों से सम्बन्धित सभी प्रकार की शंकाओं के समाधान हेतु सम्पर्क करें-
आर्यसमाज संस्कार केन्द्र
आर्यसमाज मन्दिर
अखिल भारत आर्यसमाज ट्रस्ट
90 बैंक कालोनी, अन्नपूर्णा रोड़, इन्दौर (म.प्र.)
दूरभाष क्रमांकः 0731-2489383, 9302101186

 

Parents presence not required for Arya Samaj Marriage

Gwalior-30 Oct 2013. Double bench of Madhya Pradesh High Court has set aside the decision of single judge wherein the detailed guidelines were issued to Arya Samaj temples for solemnising marriage. During hearing the review petition two judge bench opined that it is not the job of court to frame rules.

Justice SK Gangle and Justice GD Saxena set aside the decision of single judge judgement. Arya Samaj has filed the review petition against the single judge judgement. Double judge bench gave the verdict that Arya Samaj Marriages are solemnised as per Hindu Marriage rules and hence there can be no separate guidelines for Arya Samaj.

In earlier brief order, single judge asked the Arya Samaj temple managements to inform both sets of parents by a registered intimation the date and time of the proposed ceremony as also to the police station and district collector in whose jurisdiction the would-be groom and bride reside.

The review petition against this was filed by the Arya Samaj in High Court. Justice SK Gangle and Justice GD Saxena accepted the appeal and gave verdict on 30 Oct 2013 by set aside the earlier decision. Now the presence of close relatives and giving prior information to parents and police station and district collector is not mandatory. 

Contact for more info.-

Arya Samaj Mandir
Akhil Bharat Arya Samaj Trust International
Divyayug Campus, 90 Bank Colony
Annapurna Road, Indore (Madhya Pradesh) 452009
Tel. : 0731-2489383, 9302101186

 

Arya Samaj Indore | Arya Samaj Mandir Helpline Indore (9302101186) for Bikaner - Betul - Bhind - Buldhana - Chandrapur - Bhilwara | Arya  Samaj  Mandir Indore MP | Arya  Samaj Marriage in Indore | Arya Samaj Marriage Procedure | Arya Samaj in Madhya Pradesh - Chhattisgarh | Arya Samaj | Maharshi Dayanand Saraswati | Vedas | Arya Samaj Intercast Marriage | Intercast  Matrimony | Hindu Matrimony | Arya Samaj Marriage Service | Matrimonial Service | आर्य समाज मंदिर इंदौर मध्य प्रदेश | आर्य समाज मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ | वेद | वैदिक संस्कृति