Established in: 1875 at Mumbai

Arya Samaj Mandir Bank Colony, Indore is run under aegis of Divyayug Nirman Trust. Divyayug Nirman Trust is an Eduactional, social, religious and charitable trust registered under MP Public Trust Act 1951. Arya Samaj Mandir Bank Colony, Indore is the only Mandir controlled by Divyayug Nirman Trust. We do not have any other branch or Centre in Indore.Kindly ensure that you are solemnising your marriage with a registered organisation and do not get mislead by large Buildings or Hall. "आर्यसमाज मन्दिर, बैंक कालोनी, इन्दौर" दिव्ययुग निर्माण ट्रस्ट द्वारा संचालित इन्दौर में एकमात्र मन्दिर है। म.प्र. पब्लिक ट्रस्ट एक्ट 1951 के अन्तर्गत पंजीकृत दिव्ययुग निर्माण ट्रस्ट एक शैक्षणिक-सामाजिक-धार्मिक-पारमार्थिक ट्रस्ट है। आर्यसमाज मन्दिर बैंक कालोनी के अतिरिक्त इन्दौर में दिव्ययुग निर्माण ट्रस्ट की अन्य कोई शाखा या आर्यसमाज मन्दिर नहीं है। विशेष सूचना- Arya Samaj तथा Arya Samaj Marriage और इससे मिलते-जुलते नामों से Internet पर अनेक फर्जी वेबसाईट एवं गुमराह करने वाले आकर्षक विज्ञापन प्रसारित हो रहे हैं। अत: जनहित में सूचना दी जाती है कि इनसे आर्यसमाज विधि से विवाह संस्कार व्यवस्था अथवा अन्य किसी भी प्रकार का व्यवहार करते समय यह पूरी तरह सुनिश्चित कर लें कि इनके द्वारा किया जा रहा कार्य पूरी तरह वैधानिक है अथवा नहीं।

भारत-भाग्य विधाता महर्षि दयानन्द सरस्वती -1.3

स्वयं मैकाले ने लिखा था-

“We must do our best to form a class who may be interpreters between us and the millions whom we govern a class of persons Indian in blood and clour, but English in taste, in opinions, words and intellect”.

अर्थात्‌ हमें इस देश में एक ऐसा वर्ग पैदा करने का यत्न करना चाहिए जो हमारे और हमारे द्वारा शासित करोडों भारतीयों के बीच दुभाषियों का काम कर सके। यह वर्ग हाड़-मांस और रङ्ग से भले ही भारतीय लगे, परन्तु आचार-विचार, रहन-सहन, बोल-चाल और दिल-दिमाग से अंग्रेज बन जाए।

इस प्रयास में अंग्रेजों की सफलता का विवरण भी मैकाले के ही शब्दों में मिल जाता है। सन्‌ 1836 में उसने अपने चाचा को एक पत्र में लिखा था-

“No Hindu, who has received English education, ever remains sincerely attached to his religion. Some continue to profess it as a matter of policy, but many profess themselves pure theists and some embrace christianity. It is my firm belief that if our plans of education are followed up, there will not be a single idolator among the respectable classes in Bengal thirty years hence.”

अर्थात्‌ जो भी हिन्दू अंग्रेजी-शिक्षा ग्रहण कर लेता है, वह अपने धर्म में सच्ची श्रद्धा और विश्वास खो बैठता है। कुछ केवल दिखावे के लिए उसे मानते रहते हैं। अधिकतर विशुद्ध नास्तिक बनकर रह जाते हैं या ईसाई बन जाते हैं। मेरा पक्का और निश्चित विश्वास है कि यदि हमारी योजना के अनुसार कार्य होता रहा तो अब से तीस वर्ष बाद बंगाल के प्रतिष्ठित घरानों में एक भी हिन्दू नहीं बचेगा।

मैकाले की शिक्षानीति पर आधुनिक सन्दर्भ में टिप्पणी करते हुए डॉ0 राधाकृष्णन ने लिखा है-

“The policy inaugurated by Macaulay is so careful as not to make us forget the force and vitality of Western culture, it has not helped us to love our own culture. In some cases Macaulay’s wish is fulfilled and we have educated Indians who are ‘more English themselves’ to quote Macaulay’s own words.”

आशय यह है कि मैकाले की शिक्षानीति के अनुसार शिक्षित भारतीय स्वयं अंग्रेजों की अपेक्षा अधिक अंग्रेज हो गये हैं।

राजा राममोहन राय ने मैकाले की शिक्षा-नीति का समर्थन ही नहीं किया, अपितु सन्‌ 1822 में स्वयं एक अंग्रेजी स्कूल की स्थापना की। इतना ही नहीं, “सन्‌ 1823 में गवर्नर जनरल लार्ड एमरहर्स्ट को पत्र लिखकर कलकत्ता में बंगाल सरकार द्वारा स्थापित किये जा रहे संस्कृत कॉलिज को अनावश्यक तथा भारतीयों की उन्नति में बाधक भी बताया।” - आर0 एन0 सरकार, राजा राममोहन राय, पृष्ठ 24-25

राजा राममोहन राय का मन्तव्य था- “Though a foreign yoke the British rule would lead more speadily and surely to the amelioration of the native inhabitants.” 

एक सार्वभौमिक और सार्वकालिक सिद्धान्त है- “Good government is no substitute for self-government” अर्थात्‌ सुराज्य भी स्वराज्य का विकल्प नहीं होता। फिर अंग्रेज तो भारत में व्यापारी ही बनकर आये थे। व्यापार के लिए उन्होंने ईस्ट इण्डिया कम्पनी की स्थापना की थी। धीरे-धीरे यही कम्पनी भारत में अंग्रेजी शासन का आधार बन गई। उसकी अपनी सेना थी। इस सेना और भारतीय रियासतों के परस्पर संघर्ष के फलस्वरूप वह देश पर अपना अधिकार करती गई। 1849 में पंजाब पर विजय के साथ उसका अभियान पूरा हो गया और समूचे भारत पर यूनियन जैक फहराने लगा, परन्तु विज्ञान का नियम है- “To every action there is an equal and opposite reaction.”

अर्थात्‌ प्रत्येक क्रिया की उतनी ही जोरदार और विरोधी प्रतिक्रिया होती है। भारतीयों के भीतर विद्रोह की आग सुलगने लगी। यह 10 मई 1857 को ज्वाला बनकर भड़क उठी और देश के कोने-कोने में फैल गई, परन्तु कुछ ही दिनों में यह आग ठण्डी पड गई। ठण्डी पड जाने पर भी यह बुझी नहीं। उस क्रिया की प्रतिक्रिया अवश्यम्भावी थी।  लेखक- स्वामी विद्यानन्द सरस्वती

Contact for more info.- 

National Administrative Office

Arya Samaj Mandir
Akhil Bharat Arya Samaj Trust International
Divyayug Campus, 90 Bank Colony
Annapurna Road, Indore (Madhya Pradesh) 452009
Tel. : 0731-2489383, 9302101186

 

Bharat Bhagya Vidhata Maharshi Dayanand Saraswati – 1.3 | Arya Samaj Mandir Helpline Indore (9302101186) for Kolhapur - Latur - Ganganagar - Hanumangarh - Dewas - Dhar | Official Web Portal of Arya Samaj Bank Colony Indore Madhya Pradesh | Arya Samaj Indore MP Address | Arya Samaj Mandir Bank Colony Indore | Maharshi  Dayanand  Saraswati | Arya Samaj in India | Arya Samaj  Marriage  Service | Explanation of Vedas | वेद | आर्य समाज मंदिर इंदौर मध्य प्रदेश | वैदिक संस्कृति एवं वर्तमान सन्दर्भ | धर्म | दर्शन | संस्कृति | ज्ञान का अथाह भण्डार वेद